अलविदा Jim-Jam बिस्कुट

हे jim-jam बिस्कुट,
तुम क्यों मुझे यूँ तकते हो ?
मुझे यूँ ललचाकर ,
आखिर क्या पा सकते हो?

माना कभी मैं तुम्हारा दीवाना था,
मेरी ख़ुशी तेरी एक झलक पाना था
मेरे दोस्त भी तेरे आने की खबर, बड़े ही प्यार से देते थे
तू फिर कब pantry में आएगी, मेरे नयन यही राह गहते थे

तेरा स्वाद मुझे fruit n nut delight सा लगता था
तेरे लजीज़ स्वाद के आगे कुछ और न जंचता था

पर फिर वोह दिन आया,
जब एक खबर ने मेरा दिल तोड़ दिया
तुझमें E-471 इमल्सीफायर डलता है जानकर,
मैंने अपना रास्ता तेरी मंज़िल से मोड़ दिया

क्यूँ तुम्हे E-471 इतना प्रिय है?
क्या वो green symbol बस इक धोखा था ?
अब तेरा और मेरे लबों का मिलन न हो सकेगा
भले ही तेरा स्वाद कितना भी अनोखा था

तुम अब भी मुझे उस jar से झांककर यूँ देखती हो
जैसे मुझसे कह रही हो की तुम बेवफा हो
मेरी प्यारी jim-jam, तुम तो बदचलन निकली
और चाहती हो हम बेवफा भी न हों?

Note: E-471 is an emulsifier that may have been obtained from animal parts.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s