आखिर क्यों YSR ??

My reflection/reaction/state on Andhra Pradesh CM YSR’s sudden demise and the state holiday following that.

थोडा वक्त तो हो ही गया,
इस नये शहर में आए हुए ।
यहाँ अक्सर वक्त कटता है ऑफ़िस में,
या घर पर खाते या सोते हुए ।

यहाँ रश ज्यादा रहता है,
जिन्दगी थोडी तेज़ चलती है ।
इस रश और शोर-शराबे में ही,
जिन्दगी अब पूरी सी लगती है ।

आदत सी पड गयी थी मुझे,
यूँ ही ऐसे ही जीने की,
मन मारकर बडी मुश्किलों से,
दबा दी थीं हसरतें सीने की ।

लेकिन आज कुछ अधूरापन सा है,
अकेलापन फिर महसूस हुआ ।
हर तरफ सन्नाटा सा है,
ना कोई बहस ना ही दुआ ।

निकल पडा मैं सडक पर,
कि बहला दूँ अपने मन को ।
देखकर बाहर की दुनिया,
दूर कर दूँ इस अकेलेपन को ।

पर आज बाहर भी कोई नहीं,
अब ये दर्द-ए-दिल किससे कहें ?
क्यों YSR क्यों,
आखिर क्यों तुम नहीं रहे ??

नमस्ते,
पियूष

PS: I am not a YSR fan and all but its just this current state that caused all these feelings and this poem🙂

9 thoughts on “आखिर क्यों YSR ??

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s