क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

भाषा सीखें हम गोरों की,
सेवा करें हम औरों की ।
भ्रष्टाचार में हम प्रवीन हैं,
क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

जीवन में मूल्य नहीं शेष,
बढ रहा आज है द्वेष क्लेश ।
निज सेवा में ही लीन हैं.
क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

पश्चिम को है सब्की दौड,
नीचे गिरने की मची होड ।
शाषक स्वयं पराधीन है,
क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

लगता अच्छा अब पिज़्ज़ा कोक,
माना नहीं कोई रोक टोक ।
पर हुए राष्ट्र श्रमिक श्रमहीन हैं,
क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

सन्स्कार गर रख सके विशेष,
हो राष्ट्र प्रगति बस एक उद्देश्य ।
हो अपनी भाषा और अपना भेष,
ना कोई अवगुण यदि रहे शेष,
बस भक्ती प्रेम में तल्लीन हों,
तब सच में हम स्वाधीन हों ।

तब सच में हम स्वाधीन हों ।

नमस्ते,
पियूष जैन

Powered by ScribeFire.

8 thoughts on “क्या सच में हम स्वाधीन हैं ?

  1. वायदा के अनुसार आपने प्रयास किया। आशा है कि आप आगे गोरों की भाषा में न लिख कर भूरों (भारतीय) भाषा में लिखेंगे🙂

  2. pehli achi kavita…..aasha hai meri aalochnayein isi tarah tumhe aur pragati ke path par agrasar karengi…..chalo kuch to seekha….

  3. @ उन्मुक्त : धन्यवाद । आगे भी प्रयास करूंगा🙂

    ॒@Shadow_it04 : sab aap ka rahmo-karam hai…thanks for the appreciation..

    @Ankit : Thanks yaar🙂

    @Shubham : thank you🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s